कहते हैं कि मर्द को रोना नहीं चाहिए क्योंकि रोना उनके व्यक्तित्व को शोभा नहीं देता। लेकिन कभी-कभी रोना भी ज़रूरी होता है। और इस बात का सही अर्थ समझाया एक मार्शल आर्ट के कोच ने।

दरअसल “विल्सन” एक मार्शल आर्ट इंस्टीट्यूट के कोच हैं जो युवकों को कई तरह की मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग देते हैं। उनके ट्रेनिंग सेशन के दौरान जब एक 9 साल का बच्चा पंचिंग सीख रहा था, तो कोच ने उसे तेज़ हिट करने को कहा। उसने तेज़ मार कर उस बोर्ड को तोड़ तो दिया लेकिन हाथ में तेज़ लगने की वजह से वह रोने लगा। उसको रोता देख कोच उसे समझाने लगे कि तुम क्यों रो रहे हो?

Also Read:   बौद्ध भिक्षु के साथ डंडे के बल पर किया कुछ ऐसा देखकर रूह कांप जाएगी!

विल्सन ने उस बच्चे को एक गुरु की तरह बड़े ही प्यार से और बड़ी ही सरल भाषा में सिखाया कि यही जीवन की सच्ची है। जिंदगी में अनेक बार ऐसे ही कठिन मोड़ आएंगे जहां तुमको कठोर बनने की ज़रूरत होगी। गुरु की बात से चेले को एक अजीब सा कॉन्फ़िडेंस मिला और उसने तुरंत रोना बंद किया और अगले एक ही झटके में बोर्ड के दो टुकड़े कर दिये।

Also Read:   जोक्स छोड़िए इस पाकिस्तानी रिपोर्टर की इंग्लिश ही काफी है आपको हंसाने के लिए! वीडियो

सोश्ल मीडिया पर यह वीडियो बहुत ही तेज़ी से वायरल हो रही है।

No more articles