दशानन रावण में थी ये 10 अच्छाईयां, जानिए

दशानन रावण में थी ये 10 अच्छाईयां, जानिए
दशानन रावण में थी ये 10 अच्छाईयां, जानिए। एक बुराई आपकी सारी अच्छाइयों पर पानी फेर देती है और आप देवताओं की नजरों में भी नीचे ‍गिर जाते हैं। विद्वान और प्रकांड पंडित होने से आप अच्छे साबित नहीं हो जाते। अच्छा होने के लिए नैतिक बल का होना जरूरी है। कर्मों का शुद्ध होना जरूरी है। शिव का परम भक्त, यम और सूर्य तक को अपना प्रताप झेलने के लिए विवश कर देने वाला, प्रकांड विद्वान, सभी जातियों को समान मानते हुए भेदभावरहित रक्ष समाज की स्थापना करने वाला रावण आज बुराई का प्रतीक माना जाता है इसलिए कि उसने दूसरे की स्त्री का हरण किया था। आओ जानते हैं कि रावण में कौन-कौन-सी अच्छाइयां थी।
महापंडित रावण : कहा जाता है कि जब राम वानरों की सेना लेकर समुद्र तट पर पहुंचे, तब राम रामेश्वरम के पास गए और वहां उन्होंने विजय यज्ञ की तैयारी की। उसकी पूर्णाहुति के लिए देवताओं के गुरु बृहस्पति को बुलावा भेजा गया, मगर उन्होंने आने में अपनी असमर्थता व्यक्त की।
अब सोच-विचार होने लगा कि किस पंडित को बुलाया जाए ताकि विजय यज्ञ पूर्ण हो सके। तब प्रभु राम ने सुग्रीव से कहा- ‘तुम लंकापति रावण के पास जाओ।’ सभी आश्चर्यचकित थे किंतु सुग्रीव प्रभु राम के आदेश से लंकापति रावण के पास गए। रावण यज्ञ पूर्ण करने लिए आने के लिए तैयार हो गया और कहा- ‘तुम तैयारी करो, मैं समय पर आ जाऊंगा।’
रावण पुष्पक विमान में माता सीता को साथ लेकर आया और सीता को राम के पास बैठने को कहा, फिर रावण ने यज्ञ पूर्ण किया और राम को विजय का आशीर्वाद दिया। फिर रावण सीता को लेकर लंका चला गया। लोगों ने रावण से पूछा- ‘आपने राम को विजय होने का आशीर्वाद क्यों दिया?’ तब रावण ने कहा- ‘महापंडित रावण ने यह आशीर्वाद दिया है, राजा रावण ने नहीं।’
आगे पढ़िए-
Also Read:   यहां लड़कियों के मां बाप ज़बरदस्ती करवाते हैं उनका वर्जिनिटी टेस्ट
1 2 3 4 5 6
No more articles