राष्ट्रीय राजधानी से सटे नोएडा में एक 9 साल के बच्चे के साथ रेप और मर्डर की वारदात सामने आई है। नोएडा के हरोला इलाके की इस शर्मनाक घटना के बाद पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इनमें से एक आरोपी बच्चे से मिलने के बहाने उसके घर आता-जाता था। वारदात के समय मुंह हाथ से दबाने के दौरान बच्चे का सिर जमीन पर जोर से टकराया और वह बेहोश हो गया।

बेहोशी के दौरान भी एक आरोपी ने बच्चे से कुकर्म किया और इसी दौरान उसकी मौत हो गई। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सिर में अंदरूनी चोट लगने के वजह से मौत की बात सामने आई है।

Also Read:   अंग्रेज़ी बोलने वाली इस महिला से सावधान, लगा देगी चूना

परिजनों ने हत्या के पीछे उसी मकान के एक कमरे में रहने वाले रविंद्र पर शक जताया था। सेक्टर-20 पुलिस ने उसे सोमवार रात न्यू अशोक नगर बॉर्डर के पास से गिरफ्तार कर लिया। उसने पूछताछ में बताया कि शनिवार दोपहर करीब 2 बजे बच्चा उसके कमरे में आया और बाइक पर घुमाने के लिए कहने लगा।

रविंद्र उसे मकान के अन्य कमरे में रहने वाले राजेश के पास ले गया। राजेश सो रहा था। रविंद्र ने बच्चे के साथ कुकर्म करने का प्रयास किया तो बच्चे ने शोर मचा दिया। राजेश भी जाग गया। रविंद्र ने बच्चे का मुंह बंद कर दिया और राजेश ने कुकर्म किया।

Also Read:   फेसबुक पर की दोस्ती, उसके बाद रेप और फिर करने लगा ब्लैकमेल

चप्पलें फेंकी थीं हरौला नाले में
इसके बाद आरोपियों ने बच्चे के शव को सफेद प्लास्टिक की बोरी में डाल बिस्तर के नीचे छुपा दिया और बच्चे की चप्पलें प्लास्टिक की थैली में डालकर हरौला के नाले में ले जाकर फेंक दी। वापस लौटकर वह बच्चे के परिजनों के साथ मिलकर उसे खोजने का नाटक करने लगे।

रविवार रात मौका लगते ही मकान की सीढ़ियों की लाइट की तार काट दी और बोरी को नीचे ले गए। फिर घर के बाहर नाली पर लगे पत्थर हटाकर बोरी उसके नीचे डाल दी। मंगलवार सुबह राजेश को सेक्टर-6 संदीप पेपर मिल चौराहे से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

Also Read:   Online [Free Watch] Full Movie Close Encounters of the Third Kind (1977)

बेहोशी की हालत में भी किया कुकर्म
एसपी सिटी दिनेश यादव ने बताया कि हरदोई (यूपी) के रहने वाले दिव्यांग दंपती के 9 साल के इकलौते बेटे करण का शव सोमवार को मिला था। बच्चा शनिवार दोपहर स्कूल से घर आने के बाद से लापता था। सोमवार सुबह उसका शव घर के बाहर ही बंद बोरे में नाली से मिला था।

No more articles