दुनिया में कई ऐसे देश हैं जहां ओपेन सेक्स को मान्यता है। यानी की कोई भी खुले में सेक्स ट्रेड कर सकता है। उससे जुड़ी चीजे जैसे सेक्स टॉय मार्केट में बेच सकता है लेकिन भारत में इस पर कड़ा प्रतिबंध है। लेकिन फिर भी दिल्ली के कनॉट प्लेस की पालिका बाजार में सेक्स टॉयज का धंधा खूब धड़ल्ले से चल रहा है।

source

source

यहां दुकानदार दलालों की मदद से सामान ग्राहकों को मुहैया करा रहे हैं और वो भी कोड लैंग्वेज में बातचीत करके। इन सेक्स टॉयज को खरीदने वालों को कोड लैंग्वेज में ‘पाऊं’ कहा जाता है और इस मार्केट में पुरुष टॉय को ‘अकेले राम’ व महिला सेक्स टॉय को ‘एलडी’ कहा जाता है। और पॉर्न वीडियो की सीडी या डीवीडी को ‘टीआर’ कहा जाता है। और पुलिस से बचने का भी इन लोगो ने खास इंतेजाम कर रखा है, जिसके लिए एक और कोड वर्ड है ‘गैलरी’ जिसको सुनते ही ग्राहक और दुकानदार दोनों चौकनें हों जाते हैं।

source

source

आपको बता दें कि भारतीय कानून के मुताबिक में सेक्स टॉयज बेचना कानूनन अपराध है। और इसके लिए सजा का प्रावधान भी है लेकिन फिर भी काफी समय से सरकार और पुलिस के नाक के नीचे यह धंधा खूब जोरों से चल रहा है।

source

source

 

Also Read:   मोदी के कहने पर लोगो ने एक दिन में खरीदे एक करोड़ रुपए के खादी के कपड़े!

टॉयज या कॉस्मेटिक प्रॉडक्ट्स…
अभी तक इस तरह के प्रॉडक्ट्स मसलन जेल, कैप्सूल्स, स्प्रे वगैरह केमिस्ट की शॉप पर ही उपलब्ध होते थे, लेकिन हाल-फिलहाल में कई ऑनलाइन वेबसाइट्स मशहूर हो चली हैं।
ये वेबसाइट्स इन प्रॉडक्ट्स के अलावा कुछ ‘खास’ आइटम्स भी बेच रही हैं। इन साइट्स पर लॉन्जरी और नॉर्मल प्रॉडक्ट्स के साथ कुछ बैटरी ऑपरेटेड डिवाइस बेची जा रही हैं। ये सेक्स टॉयज की केटेगरी में ही आते हैं। इन टॉयज को किसी केटेगरी मेन नहीं रखा गया है, इसलिए ऑनलाइन रिटेलर इन्हें कॉस्मेटिक प्रॉडक्ट्स या हेल्थ प्रॉडक्ट्स कहकर बेच रहे हैं।

Also Read:   एक श्राप ने छीन ली इस गांव के सभी लोगो की सुनने और बोलने की शक्ति!

No more articles