आईआईटी जेईई की परीक्षा में प्रवेश पाने के लिए छात्रों के पसीने छूट जाते हैं। दुनिया के सबसे कठिन एग्ज़ाम कोपस करने के लिए छत्रों को कई साल लग जाते है। कठिन परिश्रम और लगन की वजह से हर साल अनेकों छात्रों का आईआईटी में पढ़ने का सपना साकार हो जाता है तो वहीं बहुत से छात्र निराश होकर फिर से तैयारी में जुट जाते हैं। लेकिन बिहार के छात्र ने यह कारनामा मात्र 12 वर्ष की कम आयु में ही कर दिखाया।

Also Read:   कथित हत्यारे के साथ फोटो पर बोले मंत्री, सेल्फी के जमाने में ये है आम बात

दरअसल मात्र 12 साल की इतनी छोटी आयु में दुनिया का सबसे कठिन परीक्षा माना जाने वाला आईआईटी को पास कर पूरी दुनिया में तहलका मचा देने वाला बिहार का सत्यम आज फ्रांस में इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए नजीर बन गया है। बिहार का रहने वाला सत्यम अपनी मेधा के कायल फ्रांसिसी छात्रों को भारतीय शिक्षा पद्धति का गुण सिखा रहा है।

Also Read:   एक गांव ऐसा जहां बेटा होने पर मनाते हैं शोक

16 साल का सत्यम भोजपुर जिले के बड़हरा प्रखंड के बखोरापुर निवासी रामलाल सिंह का पोता है आज से चार साल पहले भारत में खूब नाम कमाया था। जब महज बारह वर्ष की उम्र में आइआइटी की प्रतियोगिता में बुलंदी का झड़ा गाड़ा था। फिलहाल सत्यम आइआइटी कानपुर में इलेक्ट्रिकल ब्राच का छात्र है। इसी बीच फ्रांस में समर रिसर्च इन्टर्न के अवसर पर ‘ब्रेन कम्प्यूटर इन्टरफेसेज’ विषय पर रिसर्च के लिए सत्यम का चयन कर लिया गया।

Also Read:   46,000 रुपये में बिका एक कॉन्डोम!

No more articles